एक ही पेड़ से मिलेंगे ‘5 प्रजाति’ के आम के स्वाद

 

फलों का राजा आम तो हर किसी की पसंद होता है लेकिन किसी को दशहरी तो किसी को लंगड़ा या किसी को चौसा पसंद आता है लेकिन अगर आपको एक ही पेड़ से 5 प्रजाति के आम का स्वाद मिल जाए तो आप कहेंगे कि ऐसा संभव है क्या… जी हां, ऐसा संभव हो गया है। बिहार के कृषि वैज्ञानिकों ने ये चमत्कार कर दिखाया है। इन वैज्ञानिकों ने आम के एक ऐसे पौधे की प्रजाति को तैयार किया है, जिसपर  पांच प्रजातियों के आम एकसाथ, एक ही पेड़ में फलेंगे। इस पौधे की सबसे बड़ी खासियत ये है कि यह कम जगह लेता है, ज्यादा फैलता नहीं।
एक पेड़ में पांच प्रजातियों के आम फलने से जहां किसानों की आय में भी वृद्धि होगी, वहीं कम जगह में फैलने की वजह से जमीन भी ज्यादा नहीं लगेगी। इस नए किस्म के पौधे को किसान खूब पसंद कर रहे हैं।

आम के एक पेड़ में पांच प्रजातियां यथा मालदह, बंबई, जर्दालु, गुलाबखास एवं हिमसागर का स्वाद मिल सकता है। यह सुनने में कुछ अटपटा जरूर लगे, लेकिन कृषि विज्ञान केंद्र के सहयोग से खैरा प्रखंड के सिंगारपुर के किसान राम प्रसाद ने इसे सच कर दिखाया है परंपरागत खेती से राम प्रसाद को कोई आय नहीं हो रही थी। घर चलाना भी मुश्किल हो रहा था। अपनी आय में वृद्धि के लिए कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों के संपर्क में आए। केवीके जमुई में वैज्ञानिकों की सहायता से एक आम के पौधे में पांच प्रकार के आम प्राप्त करने के गुर सीखे। इसके बाद जमुई शहर में नर्सरी खोल कर उसे व्यवसायिक रूप दे दिया। अब राम प्रसाद को हर वर्ष लाखों की आय हो रही है। गुठली से तैयार बीजू पौधे की अलग-अलग डालियों में फनी कलम बांधने की तकनीक से एक पेड़ में पांच आम प्राप्त होता है।

कृषि विज्ञान केंद्र के प्रमुख डॉ. सुधीर कुमार सिंह के अनुसार इस तकनीक में सर्वप्रथम आम की गुठली को तैयार नर्सरी में डालते हैं। अब नर्सरी में बने बेड पर अंकुरित गुठली के पौधों को 20-20 सेमी की दूरी पर लगाते हैं। इससे रूट स्टाक तैयार हो जाता है। इसके पश्चात जिस प्रजाति का फल लेना हो, उसके मातृ पेड़ की स्वस्थ शाखा की अग्र भाग के छह इंच की सभी पत्तियों को एक इंच छोड़ कर काट देते हैं। एक सप्ताह बाद उन छह इंच के कटे हुए अग्र भाग को बड स्टीक के रूप में काट लेते हैं। फिर गुठली से तैयार रूट स्टाक के उपरी हिस्से को काटने के बाद 4 से 5 सेंमी तक उपर से बीचोंबीच चीरते हैं एवं बड स्टीक को वी (अंग्रेजी अक्षर) आकार में काट कर चीरा वाले स्थान पर मजबूती से घुसा देते हैं, ताकि चिपक जाए। इसके बाद पॉलीथीन से कसकर बांधकर छोड़ देते हैं। बेड में जरूरत के अनुसार नमी रखी जाती है। 45 दिनों में उस बड स्टीक से मातृ प्रजाति की डाली निकलती है, जिससे उक्त प्रजाति के फल प्राप्त होते हैं। इसी तकनीक से अलग-अलग डालियों में अलग-अलग प्रजातियों के बड स्टीक लगा कर आम के एक पेड़ में चार- पांच प्रजातियों के फल प्राप्त किए जाते हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s